IOS क्या है पूरी जानकारी – What is IOS in hindi

IOS Kya Hai Hindi आप लोग ने Apple का स्मार्टफोन जिसे iPhone कहा उसे देखा भी होगा जो की दिखने स्टाइलिश और प्रीमियम होता है साथ ही काफी बेहतरीन भी होता है जो की काफी महंगा भी होता है इस फ़ोन आजकल बहुत से लोग खरीदना चाहते है लेकिन इसकी प्राइस काफी ज्यादा होने की वजह से नहीं खरीद पाते लेकिन क्या आपको पता है की Apple का फ़ोन लोगो को अपनी और आकर्षित किए करता है बहुत से लोग ये सोचते है की इस फ़ोन की कीमत बहुत ज्यादा है तो जरूर इसमें कुछ अलग होगा तो जी हां इसमें कुछ अलग है और वो है उसका Operating System जिस पर ये डिवाइस काम करता है Apple जिस OS पर काम करता है वो IOS पर काम करता है जो की एंड्राइड और विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम से एकदम अलग है IOS वो सॉफ्टवेयर प्लेटफार्म है जिसके ऊपर आज Apple की सभी डिवाइस Run करती है जैसे iphone , iPad , iPod इत्यादि काम करते है इसलिए आज के आर्टिकल में हम आपको बताने वाले है की IOS kya hai और इसका इतिहास क्या है और IOS kya hota hai तो चलिए शुरू करते है |

IOS क्या है – What is IOS in hindi

IOS एप्पल द्वारा बनाया गया Operating System है जो की Apple के सभी मोबाइल डिवाइस पर Run करता है एंड्राइड के IOS दिया भर में सबसे ज्यादा मशहूर मोबाइल सिस्टम है IOS इस्तेमाल करता है एक मल्टी टच  interface को जिसमे सिंपल जेस्चर की हेल्प से ऑपरेट किया जाता है सिंपल जेस्चर का मतलब है जैसे मोबाइल डिवाइस के स्क्रीन के ऊपर अपने ऊँगली को swype करना जिसे अलगे पेज पर जाकर काम किया जा सके और स्क्रीन को ज़ूम करने के लिए अपनी ऊँगली से पिंच करना ये सभी काम आप IOS में आसानी से कर सकते है IOS अपने डिवाइस के सेंसर को बहुत ही मजबूत बनाता है जो आपकी उंगलियों को डिटेक्ट कर आपका काम आसान कर देता है |

IOS एप्पल डिवाइस के हार्डवेयर के सभी पहलुओं को कंट्रोल करता है साथ ही सॉफ्टवेयर के सभी कार्य को ये संभालता है इसका मतलब है की IOS यूजर को एक कम्प्लीट एक्सप्रिएंस देता है जहा सॉफ्टवेयर को हार्डवेयर के साथ चतुराई से जोड़ा जाता है जिससे यूजर को डिवाइस में बेहतर परफॉरमेंस

ios kya hai होती है Apple के App Store में 2 मिलियन से भी ज्यादा IOS एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए उपलब्ध है जो सभी मोबाइल डिवाइस का सबसे मशहूर app store है |

IOS Kya hai

IOS का फुल फॉर्म क्या है

IOS का फुल फॉर्म iPhone Operating System है

IOS का इतिहास

2005 में जब Steve Jobs में iPhone की योजना बनान शुरू की तो उनके पास बस 2 विकल्प थे

1 . Mac यानि MaC को छोटा करने का जो Apple Company का MaC  डेस्कटॉप है |

2 . iPod को और बड़ा करने का

इस समस्या को सुलझाने के बाद वो इसके MaC और iPot बनाने वाले दल से मिले और उसके बाद उन्होंने iPhone के लिए IOS बनाने का निर्णय लिया उसके बाद साल 2007 में जनवरी में iPhone के साथ नया ऑपरेटिंग सिस्टम रिलीज़ किया गया iPhone के रिलीज के समय ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम iPhone OS रखा गया था शुरुआत में iPhone के OS में कोई भी Third Party Apps को डिवाइस में run करने की इज़ाज़त नहीं दी गयी थी Steve Jobs का विचार था एप्लीकेशन डेवेलपर Safari Web Browser के जरिये Apps को डेवेलप्स कर सकते है ताकि iPhone Web X के ऊपर निर्भर करे जो Netive Apps यानि देसी एप्प्स के ऊपर निर्भर करे जो की देसी एप्प्स की तरह व्यव्हार करेगा |

अक्टूबर 2007 में Apple में घोषणा की की एक मूल सॉफ्टवेयर डेवेलपमेंट कीट SDK विकास में है और उन्होंने इसे डेवेल्पर्स के हाथो में फ़रवरी में रखने की योजना बनाई गयी 6 मार्च 2008 में SDK बनकर तैयार हो गया और इसकी घोषणा की गयी |

IOS Kya hai

App Store Launch कब हुआ था ?

10 जुलाई 2008 में App Store को खोला गया जिसकी शुरुआत में सिर्फ 200 ऍप्लिकेशन्स मौजूद थे लेकिन सितम्बर 2008 में लेकर साल 2020 तक इसकी संख्या 2.5 मिलियन से भी ज्यादा हो गयी है इन apps को सामूहिक रूप से 150 अरब से भी अधिक बार डाउनलोड किया गया है जो की बहुत बड़ी बात है |

सितम्बर 2007 में Apple ने ipod की घोषणा की उसके बाद जनवरी 2010 में iPad की घोषणा की जिसमे iPhone और iPod की तुलना में बड़ी स्क्रीन थी जिसे वेब ब्राउज़िंग , मीडिया कंस्ट्रक्शन और रीडिंग के लिए डिज़ाइन किया गया था

IOS कब बनाया गया था ?

जून 2010 में एप्पल ने iPhone OS को IOS के नाम से बदल दिया पहले एप्पल OS ज्यादा प्रोग्राम को संभाल नहीं पाता था इसलिए उन्हें विवश होकर नया मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम IOS बनाना पड़ा एप्पल का IOS वर्तमान का मुख्य सॉफ्टवेयर है जो iPhone , iPad , iPod Touch , iPad mini Mobile devices सभी मॉडल्स पर चलता है और एप्पल के स्मार्ट वाच पर यही सॉफ्टवेयर काम करता है एप्पल IOS जब भी कोई इसमें नया फीचर Add करता है तब इसे सॉफ्टवेयर अपडेट कहा जाता है |

IOS Kya hai

IOS का लेटेस्ट वर्शन कौन सा है

एप्पल हर साल IOS का नया वर्शन लाता है वर्तमान IOS का लेटेस्ट वर्शन है IOS 12 जिसे सितंबर 2018 को रिलीज किया गया है इस वर्शन में परफॉरमेंस और क़्वालिटी इम्प्रोमेन्ट पर ज्यादा ध्यान दिया गया है |

IOS के लिए मुख्य हार्डवेयर प्लेटफार्म ARM आर्किटेक्चर है IOS आज से पहले जितने IOS डिवाइस है उनमे केवल 32 Bit ARM प्रोसेसर के साथ डिवाइस पर चलाया जा सकता है लेकिन 2013 में IOS को पूर्ण 64 Bit प्रोसेसर के साथ रिलीज़ किया गया है एप्पल का नया वर्शन IOS 12 उन सभी डिवाइस पर मिल जाएगा जो 64 bit प्रोसेसर पर Run कर रहा है IOS की यह एक खास बात है की जब भी इसमें कुछ नए फीचर Add किये जाते है तो तुरंत एप्पल के सभी डिवाइस में सॉफ्टवेयर अपडेट के लिए इजाजत दे देता है

जबकि दूसरे मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम में नए फीचर के रिलीज़ होने के बाद उसे अपने डिवाइस में पाने के लिए इंतज़ार करना पड़ता है |

IOS Kya hai

IOS दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम से कैसे अलग है ?

IOS दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम से बिलकुल अलग है क्युकी ये अपने डिवाइस में अमजद सभी Apps को अपने प्रोटेक्टिव सेल के अंदर रखता है जिससे Apps एक दूसरे से दूर रहे और एक दूसरे के काम में दखल अंदाज़ी न करे IOS को इस प्रकार इसलिए डिज़ाइन किया गया है ताकि डिवाइस में अगर गलती से वायरस आ भी जाये अप्प के जरिये तो वो दूसरे app को नुकसान पहुंचाने में नाकाम रहे जबकि दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम में ऐसा कोई फीचर नहीं है IOS में जो प्रोटेक्टिव सेल होते है वो अप्प्स को घेरे हुए है इसलिए उनके कारण इस लिए उनके कारण अप्प्स में बहुत से कमिया भी आ जाती है क्युकी एक ऐप दूसरे ऐप से डायरेक्ट संवाद नहीं कर पाते जैसे हम एंड्राइड OS के डिवाइस में देखते है अगर कोई न्यूज़ कीपिंग किसी ने whatsapp पर भेजी हो तो उसे हम दूसरे browser जैसे Chorme में ओपन करके देख सकते है इसमें whatsapp डायरेक्ट chrome app के साथ डायरेक्ट संवाद करके कर पाता है यही फीचर हमे IOS में देखने को नहीं मिलती |

लेकिन ये एक अलग फीचर का उपयोग करता है एक्सटेन्स बिलिटी कहते है ये फीचर एक ऐप को दूसरे ऐप के साथ संवाद करने के लिए यूजर से अप्रूवल मांगने की इजाजत प्रदान करती है बिना अप्रूवल के ये संवाद नहीं कर पाती |

एंड्राइड और IOS के बिच एक मुख्य अंतर् ये भी है की एंड्राइड के बीच आपको चॉइस मिलती है जिसमे आप दूसरी कंपनी के स्मार्टफोन यूज़ कर सकते है लेकिन IOS में ऐसा नहीं मिलता क्युकी IOS एक यूनिफार्म प्लेटफार्म है जो केवल एप्पल के द्वारा बनाई गयी डिवाइस पर ही Ran कर सकता है |

निष्कर्ष

आज के आर्टिकल में हमने जाना की IOS Kya hai और इसका इतिहास क्या है कब इसकी शुरुआत हुई अगर ये जानकरी आपको पसंद आयी तो सोशल मीडिया पर शेयर करे और कमेंट करके जरूर बताये |

Leave a Comment

%d bloggers like this: