ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है और कैसे काम करता है -What is operating system in hindi

अपने ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम तो जरूर सुना ही होगा जिसे हम OS भी कहते है इसका इस्तेमाल हम रोज़ कंप्यूटर या फिर मोबाइल में करते है मोबाइल और इंटरनेट आज के समय में हमारी ज़िंदगी का एक जरुरी हिस्सा बन चूका है जिसके बिना हम एक काम भी नहीं कर सकते है ठीक उसी तरह मोबाइल और कंप्यूटर को सही तरह से काम करने के लिए ओपेरटिंग सिस्टम की आवश्यकता होती है और वो उन्ही के लिए बनाया गया है अब आप सोच रहे होंगे की Operating System Kya Hai in Hindi या फिर आपके दिमाग में ये ख्याल जरूर आ रहा होगा What is Operating System in hindi तो चलिए आज हम आपको इसी के बारे में बताते है की Operating system kya Hai और ये कैसे काम करता है इसके कितने प्रकार होते है इन सभी के बारे में आज हम जानेंगे |

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है – What is operating system in hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम जिसे की हम OS भी बोलते है और OS का फुल फॉर्म Operating System होता है ये के सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो की कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच सभी कामो का संचालन करता है ऑपरेटिंग सिस्टम एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो computer और user के बीच एक इंटरफ़ेस प्रदान करता है OS के जरिये ही यूजर कंप्यूटर के साथ संवाद यानि ताल्लुक रख पता है और इसके लिए यूजर को कंप्यूटर की भाषा समझने के जरूरत भी नहीं होती है |

सभी कंप्यूटर को सही तरह से काम करने के लिए या दूसरी एप्लीकेशन या प्रोग्रामिंग को Run करने के लिए OS की एक महत्वपूर्ण भूमिका होती है जैसे Chrome , MS Word , Photoshop और Games इत्यादि जैसे एप्लीकेशन को एक माध्यम या प्लेटफार्म की जरूरत है जिसमे वो Run कर सके और अपने Task को पूरा कर सके और ये सभी कार्य करने के लिए OS प्रदान करते है |

Operating System Kya Hai in Hindi

बिना OS के कंप्यूटर बेकार है जैसे की हमारे शरीर में काम करने के लिए बहुत से अंग होते है जो हमे सभी काम करने के लायक बनाते है और कोयो अंग काम करना बंद कर दे फिर भी जिन्दा रहते है लेकिन हमारे शरीर का मुख्य चीज़ आत्मा ही निकाल दिया जाये तो शरीर में सभी अंग होने के बावजूद किसी काम के नहीं रहेंगे कुछ ऐसा ही हाल होगा हमारे कंप्यूटर , लैपटॉप और मोबाइल का के साथ भी बिना Operating Sytem के हम मोबाइल या फिर कंप्यूटर पर कोई कार्य नहीं का नहीं कर सकते भले ही और सब पार्ट जुड़ा हुआ क्यों न हो इसलिए कंप्यूटर और मोबाइल में OS का होना बहुत ज्यादा जरुरी है |

कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम बहुत से छोटे छोटे प्रोग्राम्स का समूह होता है जिसे एक साथ जोड़कर System Device में रखा जाता  है यही प्रोग्राम का समूह है जो की कंप्यूटर का Recources जैसे हार्डवेयर और उनके काम को मैनेज करता है |

कंप्यूटर के हार्डवेयर अपने बल पर कार्य नहीं कर सकते न ही एक दूसरे के साथ इंटरेक्ट  कर सकते है इसलिए OS द्वारा किया किये जाने वाले इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल्स के द्वारा ही हार्डवेयर अपना काम पूरा कर पाते है |

OS कंप्यूटर में लोड होने वाला पहला प्रोग्राम होता है और ये कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर के बीच एक पुल यानि ब्रिज़ की तरह काम करता है ताकि ये दोनों आसानी के साथ इंटरेक्ट कर सके आप आपको समझ आ गया होगा की Operating System Kya Hai in Hindi 

Also Read :- Graphics Card क्या है और ये काम कैसे करता  है 

प्रमुख ऑपरेटिंग सिस्टम कौन कौन से है ?

ऑपरेटिंग सिस्टम के बहुत सारे नाम होते है लेकिन उनका काम एक ही जैसा होता है और वो कार्य है यूजर को सिस्टम के साथ जोड़ पाना और हार्डवेयर को को मैनेज करना अब तक के प्रमुख OS के नाम है

  • Windows OS
  • MaC OS
  • Linux OS
  • ubuntu
  • Android OS
  • iOS
  • MS DOS
  • Symbian OS

ऑपरेटिंग सिस्टम काम कैसे करता है ?

ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर का सबसे जरुरी भाग होता है जिसके बिना कंप्यूटर पर हम कोई काम नहीं कर सकते ऑपरेटिंग सिस्टम सभी साधारण और महत्वपूर्ण कार्य करता है जैसे की-बोर्ड द्वारा इनपुट किये जा रहे चीज़ को समझना और आउटपुट किये जा रहे चीज़ो को screen पर दिखाना , हार्ड डिस्क पर फाइल या डायरेक्टरी को मैनेज करना और कंप्यूटर के सभी पार्ट या भाग से संवाद करना आदि शामिल है |

इन सब कार्य के साथ और भी कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम करने में काफी सक्षम है जैसे की

1 . Memory Management

primary memory या फिर main Memory के मैनेजमेन्ट को ही memory मैनेजमेंट कहा जाता है ऑपरेटिंग सिस्टम प्राइमरी मेमोरी जो भी हम कार्य कर रहे या फिर सभी कार्यो को Track करता है यानि इसका कौन का भाग किस उपयोग में है और कौन सा भाग उपयोग में नहीं है , मेमोरी कहा इस्तेमाल हो रहा है और कितनी मेमोरी इस्तेमाल हो रहा है इन सभी कार्यो का पता लगाता है और मांगने पर मेमोरी उपलबध भी कराता है |

मल्टीप्रोसेसिंग के समय OS ये तय करता है किस प्रक्रिया को कब कितनी मेमोरी मिलेगी और कितनी मिलेगी जब कोई प्रोग्राम का कार्य खत्म हो जाता है तब ये दिए गए मेमोरी को वापस अपने में जोड़ लेता है |

2 . Processor Management

मुलती प्रोग्रॅमिंग में OS ये तय करता है की किस प्रक्रिया को प्रोसेसर उपयोग करने के लिए कब कितने समय के लिए देना है उसे process  scheduling कहा जाता है OS प्रोसेस की स्थिति पर नज़र रखता है इस कार्य के लिए OS के जिस प्रोग्राम को उपयोग होता है उसे traffic Cantroller के रूप में भी जाना जाता है OS प्रोसेसर को कार्य पूरा करने के लिए CPU अलॉट करता है और कार्य को पूरा होने के बाद प्रोसेसर को फ्री कर देता है |

3 . Device Management

ऑपरेटिंग सिस्टम अपने सम्बन्धित Drivers के माध्यम से डिवाइस कम्युनिकेशन का मैनेजमेंट करता है इसके लिए OS सभी डिवाइस को ऊपर नज़र रखता है इस कार्य के लिए OS के जिस प्रोग्राम का उपयोग होता है उसे Input  Output Controller के रूप में भी जाना जाता है OS तय करता है की कौन से Process को डिवाइस कब और कितने टाइम के लिए देना है जब डिवाइस का काम पूरा हो जाता है तब OS उसे Inactive कर देता है |

4 . File Management

फाइल सिस्टम को सामान्य रूप से आसान नेविगेशन और उपयोग के लिए डायरेक्टरी के व्यवस्थित किया जाता है OS इन फाइल की सूचना , स्थान , यूजर और स्टेटस पर नज़र रखता है ये हर सूचना को track करता है और इसके साथ ही फाइल का लोकेशन क्या है , फाइल कब बनाई गयी , फाइल कितने साइज की है , किस यूजर ने बनाया था ये सभी जानकरी OS रिकॉर्ड करता है |

5 . Security

OS हमारे सिस्टम को Unauthorized Access करने से रोकता है मतलब आपके अलावा कोई और यूजर बिना आपको इजाजत के कंप्यूटर का इस्तेमाल नहीं कर सकता और इसके लिए OS पासवर्ड देने की आजादी देता है जैसे की जब आप अपना कंप्यूटर ON करेंगे तो वो आपको सबसे पहले पासवर्ड पूछेगा उसके बाद ही आगे की प्रक्रिया की अनुमति प्रदान करेगा इससे आपका कंप्यूटर Secure यानि सुरक्षित रहेगा |

Also Read :- software kya Hai और ये कैसे बनाते है 

Operating System Kya Hai in Hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते है ?

आपको तो पता ही होगा की जैसे जैसे टाइम बीतता जा रहा वैसे वैसे टेक्नोलॉजी में बदलाव होते जा रहे है साथ ही मैं कंप्यूटर ने भी समय के साथ साथ काफी विकास होता गया है जब से कंप्यूटर की स्थापना हुयी है तब से ऑपरेटिंग सिस्टम का भी उपयोग किया जा रहा है कंप्यूटर में बदलाव करने के साथ साथ ऑपरेटिंग सिस्टम में भी उसके साथ अनुकूल बनाने के लिए नए नए वर्शन के भी विकसित किया गया है ऑपरेटिंग सिस्टम के बहुत सारे प्रकार है जैसे की

  1.  Multiuser Operating System
  2. Single User Operating System
  3. Multitasking Operating System
  4. Multiprocessing Operating System
  5. Network Operating System
  6. Distributed Operating System

चलिए इस क करके आयन सभी के बारे में जानते है की ये क्या होते है इन सभी के बारे में संक्षिप्त में जानेंगे |

Multiuser Operating System क्या है ?

multiuser Operating System उसे कहा जाता है ये ऑपरेटिंग सिस्टम एक से अधिक यूजर को एक साथ कार्य करने की सुविधा प्रदान करता है ये OS कंप्यूटर नेटवर्क में उपयोग किया जाता है जो एक समय में एक ही डेटा और एप्लीकेशन डेटा को एक से अधिक Access करने की अनुमति देता है |

Single User Operating System क्या है ?

ये ऑपरेटिंग सिस्टम एक समय में सिर्फ एक ही यूजर को कार्य करने की अनुमति प्रदान करता है इसमें एक से अधिक यूजर एक बार में कार्य नहीं कर सकते पर्सनल कंप्यूटर के लिए इस्तेमाल होने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम Single User OS है जिसे एक समय में एक कार्य करने के लिए बनाया गया है |

Multitasking Operating System क्या है ?

ये ऑपरेटिंग सिस्टम एक बार में कई प्रोग्राम को चलाने की सुविधा देता है एक ऑपरेटिंग सिस्टम आप एक टाइम में कई सारे कार्य कर सकते है जैसे इसमें आप एक ही समय में Email लिख सकते है और साथ में आप गाने भी सुन सकते है सोशल मीडिया का भी यूज़ कर सकते है |

Multiprocessing Operating System क्या है ?

मल्टीप्रोसेसिंग शब्द का इस्तेमाल एक तरीके को स्पष्ट तरीके से करने के लिए किया जाता है जहा पर 2 या 2 से अधिक प्रोसेसर एक दूसरे से जुड़े हुए रहते है इस OS में सिस्टम में विभिन्न और इंडेपेंडेंट के निर्देश एक ही समय में एक से अधिक प्रोसेसर द्वारा एक्सीक्यूट किये जाते है इसका मतलब है की प्रोसेसर द्वारा विभिन्न निर्देश का एक्सेक्यूशन एक के बाद एक किया जाता है जो की एक ही प्रोग्राम से प्राप्त किये गए हो |

Network Operating System क्या है ?

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम उन कम्प्यूटर्स को अपना सर्विस को नेटवर्क प्रदान करता है जो की एक नेटवर्क से जुड़े हुए होते है ये एक ऐसा प्रकार का OS है जो की Multiple Computers को एक साथ संवाद करने की फाइल शेयर करने की और दूसरे हार्डवेयर डिवाइस को एक्सेस करने की अनुपति देता है Network Operating System सर्वर पर Run होने वाला OS है |

Also Read :- फ़रवरी  में 28 दिन ही क्यों होते है 

Distributed Operating System क्या है ?

Distributed operating system वो सिस्टम होते है जो डेटा को स्टोर करते है और बहुत सारे लोकेशन पर  वितरित कर देते है इस ऑपरेटिंग सिस्टम में बहुत सारे सेंट्रल प्रोसेसर का उपयोग किया जाता है और उन प्रोसेसर के बीच प्रोसेसिंग के कार्य को बाँट दिया जाता है ये सेंट्रल कंप्यूटर कोई भी कंप्यूटर नोड या फिर कोई अन्य डिवाइस भी हो सकता है और ये सभी प्रोसेसर आपस में कम्युनिकेशन लाइन के द्वारा एक दूसरे से कनेक्ट रहते है इसका एक फायदा ये है की अगर एक कंप्यूटर या नोट को बंद भी कर दिया जाये तो अन्य दूसरे कंप्यूटर से भी कार्य किया जा सकता है ऑपरेटिंग सिस्टम के बिना कंप्यूटर का कोई अस्तित्व ही नहीं है |bina OS के ये खली डिब्बे के बराबर है |

हमारे सिस्टम में OS न हो तो क्या होगा ?

OS यूजर और कंप्यूटर हार्डवेयर के बीच इंटरफ़ेस की तरह काम करता है अगर आपके कंप्यूटर में OS इनस्टॉल न हो तो आपको की- बोर्ड , माउस और CPU के बीच कोई सम्बद्ध ही स्थापित नहीं हो पाएगा | जिससे की आपका कंप्यूटर डब्बा के समान है और कोई भी Apps उस पर रन नहीं कर पयाग और आपका कंप्यूटर ओपन ही नहीं हो पाएगा |

निष्कर्ष

आज के आर्टिकल में हमने आपको ये बताने का प्रयास किया है की Operating System Kya Hai in Hindi या फिर OS क्या है और कितने प्रकार का होता है और ये काम कैसे करता है ये जानकरी आपको कैसी लगी निचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताये और सोशल मीडिया पर भी शेयर करे |

Leave a Comment

%d bloggers like this: